Data Mining Kya Hai? Types of Data Mining In Hindi

Data Mining Kya Hai? Types of Data Mining In Hindi: data mining - geeksforgeeks ; data mining meaning ; data mining techniques ; types of data mining ; data mining pdf ; data mining ppt ; data mining algorithms ; data mining requires

Data Mining Kya Hai? Types of Data Mining In Hindi : हेल्लो दोस्तों! आज हम इस post में Data Mining Kya Hai (Data Mining क्या है?) के बारें में पढेंगे और इसके advantages, applications और types को भी देखेंगे. मैंने इसे बहुत ही आसान भाषा में लिखा है. आप इसे पूरा पढ़िए यह आपको आसानी से समझ आ जायेगा. तो चलिए शुरू करते हैं



Data mining बड़े Data के group मे से small data को search करने की process है। इस process में statistics, artificial intelligence तथा computer graphics का use किया जाता है। “Data mining एक useful technique है जिसका use करके companies बहुत बड़े data के group में से important information को निकालती है.”

Data Mining क्या है। 

Data Mining उन महत्वपूर्ण जानकारियों को निकालने से है, जो बड़े Data Sets यानि Big Data में Save रहती है, जैसे इंटरनेट पर उपलब्ध करोड़ो अरबों जानकारियां हैं जो हर समय बढ़ती चली जा रही हैं, लेकिन कैसे उन ढेरों जानकारियों में से आपकी जरुरत की जानकारी को निकाला जा सकता है।

तो एक बड़े Data store में से यानि Big Data में से अपनी जरुरत की जानकारी को खोज निकालने और फिर उस जानकारी का इस्तेमाल Business या Process को बेहतर करने लिए किया जाता है, तो इस तकनीक को Data Mining कहा जाता है।

Data Mining की इस प्रक्रिया में Data Mining Tool, Artificial Intelligence और Machine Learning का इस्तेमाल होता है। Data Mining Kya Hai?

Artificial Intelligence Kya Hai In Hindi? | Artificial Intelligence In Hindi

Machine Learning Kya Hai ? | What is Machine Learning in Hindi

Data Mining का इस्तेमाल कैसे किया जाता है। 

Data Mining में Raw Data की जाँच की जाती है, जिसके बाद उस Raw Data में से अपनी जरुरत की जानकारियाँ Collect की जाती हैं, जिसका इस्तेमाल विश्लेषण के लिए किया जाता है।

अगर हम एक बिज़नेस में Data Mining तक्नीक के इस्तेमाल की बात करें तो Data Mining द्वारा अपने Customers से जुडी जानकारी Collect की जाती है,जैसे ग्राहकों की पसंद, जरूरतें, मांग इत्यादि और इसी के आधार पर Business की मार्केटिंग रणनीतियाँ बनाई जाती हैं, और Sale को बढ़ाया जाता है। Data Mining Kya Hai?

उदाहरण के तोर पर जैसे आप इंटरनेट पर कोई प्रोडक्ट सर्च करते हैं, तो आपके द्वारा सर्च की गयी जानकारी का एक रिकॉर्ड स्थापित हो जाता है, जो एक Data के रूप में इंटरनेट पर मौजूद Server’s पर Save हो जाता है, और जब कभी आप फिर से इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको पिछले सर्च किए गए प्रोडक्ट से जुडी दूसरी और नई जानकारियां दिखाई देने लगती हैं। Data Mining Kya Hai?

तो यह सब Data Mining द्वारा ही होता है, जिसमे Data Mining Process द्वारा ऐसे ही Raw Data को फ़िल्टर करके information जुटाई जाती है और business development में उसका use किया जाता है। Data Mining Kya Hai?



Types of Data Mining in Hindi – Data Mining के प्रकार

Data mining analysis के दो प्रकार होते हैं, जो कि निम्नलिखित है:-

1 Predictive Data Mining Analysis
2 Descriptive Data Mining Analysis

  • Predictive Data Mining Analysis

यह भविष्य में होने वाली घटनाओं को predict करता है. यह चार प्रकार का होता है.

1 Classification Analysis
2 Regression Analysis
3 Time Serious Analysis
4 Prediction Analysis

  • Descriptive Data Mining Analysis

इसका प्रयोग data को उपयोगी information में बदलने के लिए किया जाता है. इसके भी चार प्रकार होते हैं:-

1 Clustering Analysis
2 Summarization Analysis
3 Association Rules Analysis
4 Sequence Discovery Analysis

Data Mining के नियम (rules of data mining in hindi)

Data Mining में हम कुछ Rules बनाते हैं जिनहे association rule बोलते हैं। यह rule Data को analyze करने के काम में आता है। Data Mining Parameters में path analysis (यानि की पाथ को समझना और उसके बारे में डीटेल निकालना), Classification (उसको टुकड़ों में विभाजित करना), clustering (एक जगह जोड़ना या फिट करना) , और forecasting (उसका पूर्वानुमान लगाना) भी Data पैरामीटर में होते हैं। Path Analysis Parameter pattern को देखता है जिससे की वह प्रभावी रूप से काम कर सके।

Data Mining की चार स्टेज

  • Data सोर्स – यह एक तरह से मुश्किलों को संभालते हैं यह डेटाबेस से लेकर न्यूज़ वायर तक होता है।
  • Data को इकठ्ठा करना (Data Gathering) – इसमे हम Data को इक्कठा करते हैं और Data की सैंपलिंग करते हैं।
  • मोडल – यूसर एक मोडल टेस्ट बनाता है और फिर उसका निरीक्षण भी करता है।
  • डिप्लोईंग मोडल – इसमे आप रिज़ल्ट पर निर्भर करते हुए आप कोई भी एक्शन ले सकते हैं।

Clustering Parameter Documents को ढूंढता है उसके बाद वह उनको सही से लगाता है। क्लस्टरिंग ग्रुप एक तरह से Data को सेट्स में व्यवस्थित करता है और कुछ जो सामान्य होते हैं उन्हे भी यह उनके हिसाब से उसी प्रकार से व्यवस्थित कर देते हैं।

इसमे बहुत तरीकों से यूजर क्लस्टरिंग कर सकते हैं जो की क्लस्टरिंग मोडलिंग में काम आते हैं। फोस्टरिंग पैरामीटरस Data Mining के अंदर पैटर्न को डिस्कवर करता है और भविष्य की गतिविधियों की भविष्यवाणी करता है जिसे हम प्रेडिक्टिव एनालिसिस भी बोलते हैं। Data Mining Kya Hai?



Data Mining के कार्य (application of data mining in hindi)

  1.  अनोमाली दिटेक्स्शन (Anomaly detection) यह असमानय Data रिकॉर्ड को देखता है और उनमे से जो कुछ भी जानकारी हमारे काम की होती है उसे निकालता है और जिस भी तरह के Data हमारे लिए उपयोगी होता है उसे हमारे लिए फ़िल्टर करते हैं। यह Data एरर का अच्छे से निरीक्षण करता है जिससे यह दुविधा सही हो सके।
  2. असोशिएशन रुल लर्निंग (Dependency modelling) – यह वैरिएब्ल के अंदर रेलशनशिप को ढूंद्ते हैं। जैसी की किसी सुपरमार्केट ने उस Data को इकठठा किया जिसमे कस्टमर की आदतों का आकलन हो और उसके बारे में हो की कौन सा प्रॉडक्ट अच्छा था और उनका शॉपिंग एक्सपिरियन्स कैसा था। इसे हम मार्केट बास्केट एनालिसिस भी बोलते हैं।
  3. क्लस्टरिंग – यह ग्रुप और स्ट्रक्चर को Data में से छाँटता है जो की उसी तरह के हैं जो की पहले से Data में स्ट्रक्चर थे।
  4. क्लास्सिफिकेशन – यह नए Data को स्ट्रक्चर में कैसे डाले उसके लिए होता है जैसे की ईमेल मे काफी मेलों को वह बांटता है कुछ मेल स्पैम में जाते हैं और कुछ मेल हमारे इनबॉक्स में आते हैं।
  5. रिग्रेशन – यह Data को उस तरह से लगाता है जिससे की Data में कम से कम एरर आए और Data का एस्टिमेशन भी सही तरह से हो सके, इसलिए रिग्रेशन हमारे लिए काफी जरूरी होता है और हमे Data Mining में काम आता है।
  6. समराईजेशन – यह Data सेट को बड़े ही कॉम्पैक्ट तरीके से दिखाता है। पर इसमे यह फायदा है की यह रिज़ल्ट को बहुत अच्छे से पार्ट्स में दिखाता है और Data की रिपोर्ट भी बड़ी आसानी से बना देता है जिससे की हमें Data को पढ़ने में मुश्किल नहीं होती। इस प्रकार हम Data को आसानी से पढ़ पाते हैं और उसे समझ पाते हैं।

Data Mining के उदाहरण

एक credit card company data mining का इस्तमाल कर उनके members की buying habits को समझती है. वहीँ cardholders के purchases को analyze कर company उनके shopping habits को study कर सकती है, वहीँ ये भी जान सकती है की वो कैसे अलग अलग जगहों के लोग किस प्रकार की खरीदारी ज्यादा करते हैं.

वहीँ ये information काफी महत्वपूर्ण हो सकती है उस individuals को कुछ specific promotions offer करने में. वहीँ ये समान data से उनकी खरीदारी के pattern को भी समझा जा सकता है, फिर चाहे वो किसे भी देश के हो या किसी भी प्रान्त से क्यूँ न हो.

ये information काफी valuable होती है उन companies के लिए जो की advertise करना चाहते हैं या कोई नया businesses आरम्भ करना चाहते हैं | Data Mining Kya Hai?

डेटा माइनिंग के उपयोग के क्षेत्र | Data Mining Areas in Hindi

डेटा माइनिंग तकनीकों का व्यावसायिक, इंटेलिजेंस और डेटा एनालिटिक्स टीमों के द्वारा व्यापक रूप से उपयोग जाता है, जिससे उन्हें अपने संगठन और उद्योग के लिए उपयोगी जानकारी प्राप्त करने में मदद मिलती है। डेटा माइनिंग का विभिन्न क्षेत्रों में इस्तेमाल हो रहा है –

  • फ्रॉड डिटेक्शन (Fraud Detection)
  • बैंकिंग (Banking)
  • एजुकेशन (Education)
  • हेल्थकेयर (Healthcare)
  • मैन्युफैक्चरिंग इंजीनियरिंग (Manufacturing and Engineering)
  • सेल्स और मार्केटिंग (Sales and Marketing)

आजकल डेटा माइनिंग का विभिन्न क्षेत्रों में उपयोग का दायरा लगातार  बढ़ता जा रहा हैं। जो व्यावसायिक रूप से फायदेमंद भी हो रहा हैं। Data Mining Kya Hai?

Data Mining के फायदे (benefits of data mining in hindi)

  • सामान्य रूप से Data Mining का काम है की छुपे हुए Data के पैटर्न को समझना और Data के बीच में संबंधो को प्रेडिक्ट करने का काम करता है, जिससे की बिज़नेस पर काफी प्रभाव पड़ता है और बिज़नेस में हम इस तरह से तरक्की भी पा सकते हैं। Data Mining के फायदे उद्योग और उद्योग के लक्ष्य पर निर्भर करता है की उस उद्योग का लक्ष्य क्या है और वह उद्योग किस तरह काम कर रहा है।
  • सेल्स और मार्केटिंग डिपार्टमेंट भी कस्टमर Data के कन्वर्शन रेट को सही करने में काम में आता है और मार्केटिंग कैम्पेन में भी काफी बढ़ छड़ कर इस्तेमाल करता है। Data Mining की पिछले सेल की जानकारी और कस्टमर के उस प्रॉडक्ट को लेकर बर्ताव से हम यह पता लगा सकते हैं की आने वाले टाइम में नए प्रॉडक्ट और सर्विस की कितनी सेल होगी और कंपनी को कितना फायदा होगा।
  • काफी कंपनी Data Mining टूल को फाइनेंनशीयल उद्योग में इस्तेमाल करते हैं रिस्क मोडल और फ़्रौड को डिटेक्ट करने के लिए। मैनुफेक्चुरिंग उद्योग में भी Data Mining टूल को हम प्रॉडक्ट की सुरक्षा के लिए इस्तेमाल करते हैं और यह उसकी गुणवत्ता को देखने में भी काम आता है। यह सप्लाइ चैन को देखने में भी बहुत काम आता है।




Data Mining और मशीन लर्निंग 

Data Mining में मशीन लर्निंग का भी एक बड़ा रोल है। आज के तकनीक जगत में Data Mining की प्रक्रिया एक कंप्यूटर को समझा दिया जाता है, जिससे एक कंप्यूटर यानी की मशीन अपनी लर्निंग की मदद से Data Mining करने में सक्षम हो जाती है।

आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस जैसे क्षेत्रों में Data Mining और मशीन लर्निंग का इस्तेमाल एक साथ किया जा रहा है। इसके अलावा मेडिकल, शिक्षा, वित्तीय सेवाओ आदि में इन दोनों सेवाओं का एक साथ इस्तेमाल किया जाता है।

मुझे आशा है की आप लोगो को समझ आगया होगा की Data Mining Kya Hai? Types of Data Mining In Hindi , दोस्तों अगर आपको मेरा ये Article अच्छा लगा हो तो Share जरूर करे | 

Thanks for reading

For Blogging E-Book and

Digital Marketing Service  

WhatsApp 9958676204

 

Be the first to comment on "Data Mining Kya Hai? Types of Data Mining In Hindi"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*