Sunday, March 3, 2024
HomeBlogsEventदिवाली क्यों मनाई जाती है और दीपावली का महत्व क्या है?

दिवाली क्यों मनाई जाती है और दीपावली का महत्व क्या है?

दिवाली क्यों मनाई जाती है- दिवाली, जिसे दीपावली या दीपोत्सव के नाम से भी जाना जाता है, एक हिंदू त्योहार है जो हर साल कार्तिक शुक्ल पक्ष की अमावस्या को मनाया जाता है। यह त्योहार प्रकाश और उल्लास का प्रतीक है, और यह हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। दीपावली का महत्व क्या है?



दिवाली में क्या होता है

 इस दिन, लोग अपने परिवार और दोस्तों के साथ मिलते हैं और नए कपड़े पहनते हैं। वे मिठाई और अन्य व्यंजन खाते हैं, और वे आतिशबाजी का आनंद लेते हैं। दिवाली एक ऐसा त्योहार है जो लोगों को एक साथ लाता है और उन्हें खुशी और समृद्धि का संदेश देता है।

दीपावली कब की है

Holiday तारीख में मनाया गया
दिवाली सोमवार दिल्ली, हरियाणा, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान और उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, गोवा, केरल, पंजाब, तेलंगाना और तमिलनाडुदिवाली के महत्वपूर्ण रीति-रिवाज

दीपावली की छुट्टियाँ 2024 से 2028 तक

Festival Day Date
दीपावली 2024 Friday 01 November
दीपावली 2025 Tuesday 21 October
दीपावली 2026 Sunday 08 November
दीपावली 2027 Friday 29 October
दीपावली 2028 Tuesday 17 October

दिवाली के महत्वपूर्ण रीति-रिवाज

  • लोग अपने घरों को रोशनी से सजाते हैं।
  • लोग लक्ष्मी की पूजा करते हैं।
  • लोग नए कपड़े पहनते हैं।
  • वे मिठाई और अन्य व्यंजन खाते हैं।
  • वे आतिशबाजी का आनंद लेते हैं।



दीवाली का अर्थ क्या होता है?

दीवाली का अर्थ “दीपों का त्योहार” होता है। यह एक हिंदू त्योहार है जो हर साल कार्तिक शुक्ल पक्ष की अमावस्या को मनाया जाता है। यह त्योहार प्रकाश और उल्लास का प्रतीक है, और यह हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। दिवाली क्यों मनाई जाती है

दिवाली क्यों मनाई जाती है

दिवाली क्यों मनाई जाती है दिवाली एक हिंदू त्योहार है जो हर साल कार्तिक शुक्ल पक्ष की अमावस्या को मनाया जाता है। यह त्योहार प्रकाश और उल्लास का प्रतीक है, और यह हिंदू धर्म में सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। दिवाली को मनाने के कई कारण हैं। एक कारण यह है कि यह त्योहार भगवान राम के रावण पर विजय का प्रतीक है। भगवान राम हिंदू धर्म के सबसे महत्वपूर्ण देवताओं में से एक हैं, और उन्हें सत्य और अच्छाई का प्रतीक माना जाता है। रावण एक राक्षस था जो अत्याचार और अन्याय का प्रतीक था। दिवाली क्यों मनाई जाती है

भगवान राम ने रावण को दस दिनों के युद्ध के बाद हराया, और इसने अच्छाई की बुराई पर विजय का प्रतीक है। दिवाली को मनाने का एक और कारण यह है कि यह त्योहार धन की देवी लक्ष्मी की पूजा का प्रतीक है। लक्ष्मी को सुख, समृद्धि और समृद्धि की देवी माना जाता है। दिवाली के दिन, लोग लक्ष्मी की पूजा करते हैं और अपने घरों को रोशनी से सजाते हैं। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से लक्ष्मी उनके घरों में आती है और उन्हें धन और समृद्धि प्रदान करती है। दिवाली क्यों मनाई जाती है



दिवाली पर निबंध

दिवाली पर निबंध भारतीय उपमहाद्वीप में मनाई जाने वाली दिवाली एक प्रमुख हिन्दू त्योहार है। यह त्योहार हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है, जो अक्टूबर या नवम्बर महीने में पड़ता है। यह त्योहार बड़े धूमधाम से मनाया जाता है और यह हिन्दी धर्म की महत्वपूर्ण परंपराओं में से एक है।

पूजा और उत्सव

दिवाली के दिनों में घरों की सजावट और रंगों की बातचीत होती है। घरों को दीपों, फूलों, लकड़ी के आभूषणों और रंगीन पट्टियों से सजाया जाता है। लोग खासकर माता लक्ष्मी की पूजा करते हैं, जिन्हें धन और समृद्धि की देवी माना जाता है। साथ ही, गणेश जी की पूजा भी की जाती है, जिन्हें विघ्नहर्ता और शुभ प्रार्थनाओं के देवता के रूप में माना जाता है।

दिवाली का एक अहम हिस्सा दीपों की रौशनी है। लोग अपने घरों के आस-पास दीपक और मोमबत्तियों की श्रृंगारिक रौशनी करते हैं। यह संकेतिक रूप में आत्मज्ञान की प्रकाशित होने की प्रतीक होती है और अंधकार को दूर करती है। दिवाली क्यों मनाई जाती है

दिवाली पूजा सामग्री सूची

  • पीतल का दिया, रुई की बत्ती, अक्षत (चावल),
  • पानी वाला नारियल, कमल के दो फूल,
  • गुलाल, हल्दी, मेहंदी, चूड़ी,
  • काजल, रुई, रोली, सिंदूर, सुपारी,
  • पान के पत्ते, पुष्पमाला, पंच मेवा,
  • गंगाजल, शहद, शक्कर, शुद्ध घी,
  • दही, दूध, ऋतुफल, गन्ना, सीताफल,
  • सिंघाड़े,पेड़ा, मालपुए, इलायची (छोटी),लौंग,
  • इत्र की शीशी, कपूर, केसर, सिंहासन,
  • पीपल, आम और पाकर के पत्ते,
  • औषधि जटामासी, शिलाजीत,



  • लक्ष्मीजी की मूर्ति, गणेशजी की मूर्ति, सरस्वती का चित्र,
  • चांदी का सिक्का,
  • लक्ष्मी-गणेशजी को चढ़ाने के लिए लाल या पीले रंग के वस्त्र,
  • जल कलश, सफेद कपड़ा, लाल कपड़ा,
  • पंच रत्न, दीपक, दीपक के लिए तेल, पान का बीड़ा,
  • श्रीफल,कलम, बही-खाता, स्याही की दवात,
  • पुष्प (गुलाब और लाल कमल), हल्दी की गांठ,
  • खड़ा धनिया, खील-बताशे,
  • अर्घ्य पात्र सहित अन्य सभी पात्र, धूप बत्ती, चंदन।

दिवाली पूजा विधि

  • दिवाली की सफाई बहुत जरूरी है। अपने घर के हर कोने को साफ करें। सफाई के बाद, आसपास को शुद्ध करने के लिए गंगाजल (गंगा नदी का पवित्र जल) छिड़कें।
  • अपने पूजा कक्ष/बैठक कक्ष में एक मेज/स्टूल पर लाल सूती कपड़ा बिछाएं और उसके बीच में एक मुट्ठी अनाज रखें।
  • अनाज के बीच में कलश रखें। कलश में 75% पानी भरें और उसमें एक सुपारी, एक गेंदे का फूल, एक सिक्का और
  • कुछ चावल के दाने डालें। कलश पर गोलाकार डिजाइन में 5 आम के पत्ते रखें।

कलश के मध्य में देवी लक्ष्मी की मूर्ति और दाहिनी ओर (दक्षिण-पश्चिम दिशा) भगवान गणेश की मूर्ति रखें। एक छोटी सी थाली लें और चावल के दानों का एक छोटा सा सपाट पहाड़ बनाएं, उस पर हल्दी से कमल का फूल बनाएं, कुछ सिक्के रखें और उसे मूर्ति के सामने रखें। दिवाली क्यों मनाई जाती है

  • अब अपना व्यवसाय/हिसाब किताब और अन्य धन/व्यवसाय से संबंधित वस्तुएं मूर्ति के सामने रखें।
  • अब मां लक्ष्मी और भगवान गणेश को तिलक लगाएं और दीये जलाएं। कलश पर भी तिलक लगाएं।
  • अब भगवान गणेश और लक्ष्मी को फूल चढ़ाएं। प्रार्थना के लिए अपनी हथेली में कुछ फूल रखें।
    दिवाली पूजा विधि चरण 8: पूजा मंत्र का पाठ करें
  • अपनी हथेली में फूल रखें और अपने हाथ प्रार्थना मुद्रा में जोड़ें, अपनी आंखें बंद करें और दिवाली पूजा मंत्र का जाप करें।
  • पूजा के बाद अपनी हथेली में रखे फूल को गणेश और लक्ष्मी को अर्पित करें।
  • एक लक्ष्मी मूर्ति लें और उसे जल और पंचामृत से स्नान कराएं। इसे दोबारा पानी से स्नान कराकर साफ कपड़े से पोंछकर वापस कलश पर रख दें।
  • मूर्ति को हल्दी, कुमकुम और चावल चढ़ाएं। माला को देवी के गले में डालें। मूर्ति के सामने अगरबत्ती और धूपबत्ती जलाएं।
  • नारियल, सुपारी, पान का पत्ता लेकर देवी को अर्पित करें। देवी को फल और मिठाई अर्पित करें। मूर्ति के सामने कुछ फूल और सिक्के रखें।
  • एक थाली में दीया, पूजा की घंटी लें और लक्ष्मी आरती करें।

2023 में दिवाली की छुट्टियाँ बिताने के लिए शीर्ष पाँच भारतीय स्थान

जयपुर: जयपुर हर साल दिवाली की छुट्टियों के दौरान घूमने के लिए सबसे प्रसिद्ध गंतव्य है। दीपावली की असली सुंदरता घरों, दुकानों और सड़कों को सजाने वाले दीयों और रोशनी की गर्म चमक से पैदा होती है। जयपुर, गुलाबी शहर, इसका अनुभव करने के लिए सबसे अच्छी जगह है। हर साल शहर की सड़कों को सजाने के लिए प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं।

गोवा: भारत का सबसे छोटा राज्य गोवा दिवाली समारोह के लिए भी प्रसिद्ध है। उत्सव का ध्यान राक्षस नरकासुर के विनाश पर होगा। हर शहर और गांव में यह देखने के लिए प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं कि राक्षस की सबसे बड़ी मूर्ति कौन बना सकता है। चूँकि जुआ भी दिवाली की एक प्रसिद्ध गतिविधि है, आप कैसीनो में अपनी किस्मत आज़मा सकते हैं। – दिवाली क्यों मनाई जाती है

वाराणसी: वर्ष 2023 की दिवाली की छुट्टियां बिताने के लिए वाराणसी एक सुंदर भारतीय गंतव्य है। सुनिश्चित करें कि आप त्योहार की वास्तविक सुंदरता का अनुभव करने के लिए वाराणसी शहर के नदी किनारे के रेस्तरां में से एक में रुकें। त्योहार के मुख्य आकर्षण में विशेष गंगा आरती और मिट्टी के दीपक शामिल हैं।



कोलकाता: जहां कई लोग दिवाली पर देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं, वहीं त्योहार का मुख्य दिन पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में काली पूजा के रूप में मनाया जाता है। देश भर से कई भक्त बेलूर मठ, कालीघाट और दक्षिणेश्वर जाते हैं, जो शहर में काली मंदिर हैं।

Read More : फूलेरा दुज त्यौहार 2024 का महत्व

दिल्ली: भारत की राजधानी दिल्ली दिवाली की छुट्टियों के दौरान खरीदारी के लिए प्रसिद्ध है। दिल्ली हाट एक प्रसिद्ध दिवाली बाज़ार का आयोजन करता है। यदि आप अद्वितीय हस्तशिल्प में रुचि रखते हैं, तो दिवाली की छुट्टियों 2023 के दौरान बिताने के लिए दिल्ली का दौरा करना चाहिए दिवाली क्यों मनाई जाती है

admin
admin
हमारी टीम में Digital Marketing, Technology, Blog, SEO, Make Money Online, Social Media Marketing, Motivational Quotes and Biography संबंधित क्षेत्रों के विशेषज्ञ शामिल हैं। हम डिजिटल स्पेस में नवीनतम रुझानों और सर्वोत्तम प्रथाओं के साथ अप-टू-डेट रहने के लिए समर्पित हैं, और हम अपने पाठकों को ऑनलाइन सफल होने में मदद करने के लिए हमेशा नए और नए तरीकों की तलाश में रहते हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular